शादीशुदा बड़ी बहन की चुदाई

मेरी बड़ी बहन ३० साल की एक शादीशुदा औरत है. वो एकदम सेक्स बम जैसी हॉट है और मैं हमेशा से ही अपनी बहन को चुदाई चोदना चाहता था. बहन की मोटे चुतड और बड़े बूब्स है. कितने ही लडको को मैने खुद ही बहन की गांड से जानबूझ कर उससे टकराते हुए देखा था. दोस्तों, अब तो आप समझ ही गए होगे, कि मेरी बहन एक मस्त माल है. मेरी बहन कपड़ो पर इतना ध्यान नहीं देती थी. बहुत बार ऐसे ही बैठी रहती थी, कि उसकी ब्रा की स्ट्रिप, बूब्स या पेंटी दिख जाया करती थी.

मैं इन्हें देखकर ही गरम हो जाया करता था. कभी-कभार बाथरूम में जाकर मुठ भी मार लेता था. बात उनदिनों की है, जब मेरे पैरेंट को नानी के घर जाना पड़ा इर मेरे एग्जाम के कारण मैं नहीं जा पाया था. मैने माँ को बोला – आप दीदी को बुलवा लो. वो मेरी देखभाल कर लेगी. मैंने उनको बुलवाया तो अपनी देखभाल के लिए था; ताकि मेरी पढाई थी से हो सके. लेकिन, मेरे मन में कुछ और ही खिचड़ी पक रही थी और मैं मन ही मन सोच रहा था, शायद उनको चोदने की मेरी मुराद पूरी हो जाए. माँ ने दीदी को बुला लिया. वो अगले दिन जीजा जी के साथ घर आ गयी और दो दिन बाद, आप ये कहानी आप रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। जीजा जी लौट गये और मेरे माँ डैड भी उसी दिन मामा जी के यहाँ चले गये. अब हम दोनों ही घर में थे. अक्सर मैं खेल-खेल में अपनी बहन के बट्स छु लेता या उसके दूध पकड़ कर दबा देता. उसे मेरे इंटेंशन के बारे में मालूम नहीं था.एक दिन रात को मैने एक बहुत हॉट मूवी देखी. मैं बहुत गरम था. मैने देखा, कि मेरी बहन नाईटइ पहन कर सो रही थी. मुझसे रहा नहीं गया, क्युकि उनकी थाई साफ़-साफ़ दिख रही थी. मैं धीरे से उसके बेड के पास जाकर बैठ गया. उसकी बॉडी को देखने लगा. धीरे से बहन की बूब्स ड्रेस के ऊपर से सहलाने लगा. फिर मैने बहन की मखमली गोरी जांघो की ओर देखा. मैने उसकी ड्रेस उपर सरका दी. वाओ .. व्हाट अ व्यू! क्या नज़ारा था! ..बहन की गोरी-गोरी लेग्स. थोड़ी देर उसकी लेग्स को सहलाता रहा. फिर एक्स्सित्मेंट में थोडा और ऊपर गया और उसकी थाई को सहलाने लगा और फाइनली उसकी वाइट व् शेप वाइट पेंटी दिखी. मुझसे रहा नहीं गया और मैने बहन की चूत को चूमा और सहलाने लगा. इससे मेरी बहन जाग गयी.

वो हैरान रह गयी और बोली – ये क्या कर रहे हो? शर्म नहीं आती, अपनी बहन के साथ ये सब. मैने उसको सॉरी बोला और चुपचाप कमरे में लौट आया. सोने से पहले मैने बाथरूम में जाकर मुठ मारकर अपने को शांत किया. लेकिन मुझे साड़ी रात नीद नहीं आया. नेक्स्ट डे, सब कुछ नार्मल था. लेकिन हम एकदूसरे से बात नहीं कर रहे थे. मुझे मूवी देखने का बड़ा कर रहा था. मैं मार्किट गया और वहां से एक अच्छी सी मूवी और कुछ XX मूवी ले आया. मेरे रूम में अलग टीवी लगा है. मैने एक XX मूवी देखी और दुसरे को आधे में छोड़कर नहाने चला गया. जब मैं नहा रहा था तो रूम में आ गयी और टीवी पर लगी XX मूवी देखने लगी. वो गरम हो गयी. उसे अपने पति के साथ रोज़ सेक्स करने की आदत थी और ४ दिन से सेक्स ना करने के कारण, वो बहुत प्यासी थी. मैं बाहर आया, आप ये कहानी आप रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो उसे अपने रूम में देखकर ठिठक गया. मैं कुछ नहीं कहा. चुपचाप हमने मूवी देखी और अपना लंच किया. लंच करते समय उसने मुझसे कहा – तुम्हे ऐसा नहीं करना चाहिए था. तुम मेरे भाई है और भाई को ऐसा करना पाप है. मैं कुछ डर गया था और मैने उससे कहा – मुझसे माफ़ कर दो. अब मैं ऐसा नहीं करूँगा. प्लीज किसी से कुछ मत कहना. मैं समझ गया, कि अब मेरा काम हो जाएगा, इसलिए मैं शांत रहा. रात को मैं खाना खाके अपने बेडरूम में चला आया. जब रात को १२:३० बजे मैं पेशाब करने गया, तो देखा वो हॉल में बैठी हुई टीवी देख रही थी और अपने बूब्स को सहला रही थी. मैं चुपचाप देखता रहा और फिर थोड़ी देर बाद वो टीवी ऑफ करके सोने जाने लगी और मैं अपने कमरे में वापस आकर अपने बेड पर आँखे मूंद कर लेट गया. थोड़ी देर बाद, वो मेरे कमरे में आई और मेरे बेड पर बैठ गयी और मेरे लंड को बड़े ध्यान से देखने लगी.

फिर थोड़ी देर बाद, वो मुझे आवाज़ देने लगी, मगर मैं कुछ नहीं बोला. तो वो मेरे लंड को सहलाने लगी. मैं जाग गया और पूछा दीदी आप? तो वो बोली, कि हाँ तू थक गया होगा, तेल लगाने आ गयी थी. मैने बोला – ठीक है, लगा दो. तेल लगाते-लगाते, वो जानबूझकर अपना हाथ मेरे पेनिस से टच कर रही थी, तो मेरा पेनिस खड़ा हो गया. मैं समझ गया, कि वो अब चुदना चाहती है बट मैं चाहता था, कि वो स्टार्ट करे …. ऐसा ही हुआ. वो बोली – भाई एक बात बोलू – मैं उस दिन डाट दिया था. “आई ऍम सॉरी”. मैने बोला – कोई बात नहीं दीदी. मैने गलती ही की थी. फिर वो बोली – माफ़ तो कर दूंगी, लेकिन एक शर्त है. तू मुझे वो मूवी दिखायेगा XXX वाला. मैं खुश हो गया और उससे चूम लिया. वो बोली – ये सब नहीं. मैने मूवी लगा दी. हम दोनों बेड पर साइड बाई साइड पेट के बल लेट कर मूवी देखने लगे. आप ये कहानी आप रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मूवी देखकर दीदी गरम होने लगी.देखते –देखते, मैने अपना हाथ उसके बट्स पर रख दिया और उसको सहलाने लगा. वो बोली – नहीं भैया ये सब नहीं. आई सेड – मैं तो सिर्फ कपड़ो के ऊपर से मज़ा ले रहा हु. प्लीज थोड़ी देर करने दो ना. कपड़ो के ऊपर से ही करूँगा ना. प्लीज प्लीज … शी सेड – ओके, लेकिन सिर्फ ऊपर से ही. मैंने कहा – हाँ और उसके पिछवाड़े को कपड़ो के ऊपर से सहलाने लगा और दबाने लगा. फिर धीरे से उसकी थाई को सहलाने लगा और फाइनली उसकी ड्रेस के अन्दर हाथ डालकर उसकी पेंटी के ऊपर. वो बोली – तुमने बोला था, कि ऊपर से ही सहलाओगे.. मैने कहा – हाँ तो पेंटी के कपडे के ऊपर ही तो है. उसे भी मज़ा आने लगा था, तो वो चुप हो गयी और फिल्म देखने लगी. अब मैं उसके बट्स को पेंटी के ऊपर से सहला रहा था. कभी-कभी थाई भी.

फिर मैने उसके अंदर की तड़प बढ़ाने के लिए उसकी चूत को सहलाने और दबाने लगा. उसके मुह से कभी-कभी दबी सी मोअन निकलती – ओहोहोहोहो. मैने उसकी ड्रेस को पीछे से उठाया और उसके गोरे-गोरे पिछवाड़े को देखने लगा. फिर पेंटी के ऊपर से किस करने लगा.अब तक उसने आँखे बंद कर ली थी. मैने उसे सीधा लिटाया और उसके पेंटी के ऊपर उसकी चूत को तेजी से किस करने लगा. वो “म्मम्मम ओहोहोहोहो भैया …आआअ” करने लगी. मैंने जब देखा, कि वो गरम हो गयी है तो मैने उसकी पेंटी के साइड से अंदर हाथ डाल दिया और उसकी चूत को पेंटी के अन्दर सहलाने लगा. वो अहहहः नहीईईइ भैया बोल रही थी. मैने उसकी पेंटी उतार दी. आप ये कहानी आप रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अचानक से वो होश में आई और बोली – नहीं, ये सब नहीं भैया. ये सब ठीक नहीं है. मम्मी पापा को पता चलेगा, तो क्या सोचेंगे? मैने कहा – कुछ गलत नहीं है और उन्हें कैसे पता चलेगा? बस एक दीदी प्लीज. वैसे भी आपकी शादी के दो साल हो गये है और कोई बच्चा भी नहीं हुआ है. शायद मेरे करने से हो जाए. सब खुश हो जायेंगे. फिर वो कुछ नहीं बोली. मैं उसकी चूत को चूमने लगा और उसे पागल कर दिया. बहन की चूत लिक करते करते दोनों हाथ उसकी ड्रेस के अन्दर ले जाकर उसकी ब्रा के अन्दर उसकी चुचिया यानि दूध और बूब्स दबाने लगा. उसे बहुत मज़ा आ रहा था. मैने उसे पूछा – कैसा लग रहा है?उसने कहा – म्मम्मम बहुत अच्छा, भैया. फिर मैने उसके पुरे कपडे उतारे और उसको एकदम नंगा कर दिया. अब मैं उसकी पूरी बॉडी को चूम रहा थाम सहला रहा था. मैने बहन की एक चूची अपने मुह में ले ली और उसको चूसने लगा और दूसरी को अपने हाथ से दबाने लगा. वो मेरा सिर के बालो को सहला रही थी. १५ मिनट के बाद मैने बहन की चूत में अपना लंड लगाया और प्रेशर दिया. वो चिल्ला दी.. नहीं भैया, बहुत दर्द हो रहा है.

फिर मैने उसकी चूत पर थोडा वेसलिन लगा दिया और फिर से घुसाया अपने लंड को. मेरा लंड उसके पति के लंड से बड़ा था. आफ्टर ३-४ ट्राई, मेरा पूरा लंड बहन की चूत के अन्दर चला गया. थोडा सा खून भी निकला. फिर थोड़ी देर बाद, उसे मज़ा आने लगा था. वो बोली – आहाहहः अहहाह भैया बहुत मज़ा आ रहा है. जोर से मरूऊऊऊ. हम दोनों पसीने-पसीने हो रहे थे. आफ्टर सम टाइम, मुझे लगा कि वो झड़ गयी है. बट मैं कंटिन्यू करता रहा और कुछ देर बाद मुझे लगा, कि मेरा निकलने वाला है, तो मैने सारा माल बहन की चूत में निकल दिया.उसदिन तो जल्दी-जल्दी कर लिया. लेकिन मैं बहुत अच्छे से दीदी को चोदना चाह रहा था और उसे गिफ्ट में अपना बच्चा देना चाहता था. सो मैने उस दिन से उसका दूसरा पति बन गया और फिर हमने अगले दिन सुबह ही नाश्ता करने के बाद काम शुरू कर दिया और एक साथ नहाये भी …. वो भी नहा कर एक दम नंगी दुल्हन की तरह लग रही थी. आप ये कहानी आप रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैने कहा – आज तो तुझे माँ बना ही दूंगा. ये कहकर मै अब उससे चिपक और मेरा लंड टाइट हो गया था. मेरा लंड उसकी चूत से चिपका हुआ था. मैने सबसे पहले उसके फॉरहेड पर किस की और उन्होंने कहा – क्या हुआ? मैने कहा – कुछ नहीं. और अपने हाथ से उनकी गांड को सहलाने लगा. उन्होंने अब साथ देते हुए, मुझे चूमना शुरू कर दिया. मैने उनकी गांड को सहलाने के साथ-साथ उनकी थाई को भी सहला रहा था. वो पूरी तरह से सिडयूड होने लगी थी और मेरा लंड भी फूलने लगा था. मेरे सब्र का बांध टूट रहा था और मैने अपनी ऊँगली उनकी चूत पर रख दी और उसको सहलाने लगा और दबाने लगा. मैने अपनी एक ऊँगली उनकी चूत में डालने के लिए बढाई, तो उन्होंने मेरा हाथ रोक लिया और बोली – अब क्या करना चाहते हो? अब और नहीं करो ये सब. वो मुझे मना जरुर कर रही थी, लेकिन उनकी आवाज़ में एक मदहोशी थी.

मैं नहीं रुका और मैने अपनी स्पीड बड़ा दी. हम दोनों एक दुसरे के सामने नंगे खड़े हुए थे. मैने उनके बूब्स को अपने हाथो में ले लिया उनको दबाना स्टार्ट कर दिया. और उनको बेरहमी से चूस भी रहा था. हम सेक्स के उस मोड़ पर थे, जिससे एक्चुअल हार्डकोर चालू होता है. अब हम दोनों नंगे ही बेडरूम में चले गये. मैने उनको बेड पर बैठ्या और उनके बूब्स को सहलाने लगा और दबाने लगा. फिर मैने अपने लंड को उनके पेट पर रख दिया और उससे उसको सहलाने लगा और फिर उसको बूब्स पर ले गया. मेरे लंड से प्रीकम निकल रहा था, जो उसके बदन पर गिर रहा था. वो मज़े ले रही थी और उसका बदन मस्ती में मचल रहा था. फिर मैने अपने लंड को उसकी चूत में डाल दिया और झटके मारने लगा. वो मज़े से हिल रही थी और उसकी हवस बुझ रही थी. मैने २० मिनट तक उसकी चूत में लंड को डाले रखा. और फिर अपना पानी उनके अंदर ही छोड़ दिया. साथ-साथ में उनके बूब्स चूस रहा था. आप ये कहानी आप रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मुझपर उनकी जवानी का भुत सवार था और मैने अपना लंड निकाला और उनके मुह पर रख दिया. वो मेरे लंड को चूस रही थी. मेरा सेक्स का शैतान कुछ शांत हुआ और हम नंगे लेटे रहे. मुझे अब अहसास हुआ, कि मैने पानी अन्दर छोड़ दिया है. १० दिन तक ऐसे ही धकाधक चुदाई चलती रही.फिर एक दिन उन्होंने बोला – कि वो बनने वाली है. मैं खुश हो गया और उसे पकड़ लिया. और फिर रात भर की चुदाई में बहन की चूत को चोद – चोदकर भोसड़ा बना दिया. रात भर की चुदाई के बाद, हम सो गये और सुबह उठे तो वो नहाने जा रही थी. तभी उसका हस्बैंड उसे लेने आ गया. मैने उसे बैठाया और बात करने के बाद रेस्ट करने के लिए कमरे में छोड़ आया. फिर मै चुपके से बाथरूम में घुस गया और उसको स्मुच करने लगा. वो बोली – कोई आ जायेगा. मैने सुबह-सुबह उनका रस चूस लिया और फिर बाहर आ गया. फिर शाम की ट्रेन से वो लोग चले गये. अब नेक्स्ट मंथ, मुझे उनके घर जाना है. देखे, अब क्या नया काण्ड होता है .कैसी लगी हम डॉनो भाई और बहन की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बहन की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NishaKumari

1 comments:

Indian sex story

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter