Home » , , , » भाभी को चोदने के चक्कर में गलती से माँ चुदी

भाभी को चोदने के चक्कर में गलती से माँ चुदी

आज की गलती से चुदाई की कहानी मेरी माँ की चुदाई की हैं । आज मैं बाटूंगा कैसे गलती से माँ को चोदा ,कैसे भाभी समझकर माँ को नंगा करके चोदा,अंधेरे में माँ को घोड़ी बना के चोदा, 8 इंच का लण्ड से माँ की चूत मारी, माँ की गांड मारी ,और माँ की चूत को ठोका ।अब मेरे घर मे मैं मेरे मा पापा और भैया भाभी जी रहते हे. पापा का सरकारी मे जॉब करते हे मा हाउसवाइफ हे भैया भी जॉब करते भाभी जी हाउसवाइफ है ये कहानी मेरी लाइफ की पहली सेक्स एक्सपीरियेन्स हे जो मैं आपके साथ शेयर कर रहा हू.
जब मैं स्कूल में पढता था तभी मैंने पहली पॉर्न देखी थी और तब से हे मेरा ये सिलसिला स्टार्ट हुआ था और उसके हे कुछ दिन बाद मैने पहली बार मूठ मारी थी. जब मैने पॉर्न देखना स्टार्ट किया था तब स्टार्टिंग मे मैं सिर्फ़ इंग्लीश पॉर्न देखता था जिसमे हरडकोरे सेक्स रहता था पर कुछ दिन बाद मैने पहली बार एक इंडियन हॉट फिल्म देखी और उससे देखकर मैं कुछ ज्यादा ही उत्तेजित होने लगा था. उस समय मल्लू टाइप की भाभी जी सेक्स सिनेमा में होती थी.तबसे मुझे इंडियन मॅरीड वमेन्स मे ज्यादा इंटरेस्ट आने लगा था और आज भी हे पर उसी वक्त मुझे ऐसे कोई मिली नही थी तो वही मूवी देखकर मैं मूठ मरके अपना काम चला रहा था.
उसके बाद मैंने इन्टरनेट पर सेक्स की कहानी पढ़नी शुरू की, मुझे नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे बहूत ही ज्यादा हॉट कहानियां पढ़ने को मिली तब से मैं रोज इस वेबसाइट पर आने लगा और सेक्सी चुदाई की कहानियां पढ़ने लगा.आप ये कहानी रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसी समय मेरे बड़े भाई की घर मे शादी की बात चल रही थी और कुछ दीनो मे ही उनकी शादी हो गयी शादी के बाद भैया भाभी जी के बेडरूम से सेक्स की सिसकियाँ और आह आह उफ़ उफ़ की आवाज़े सुनने मिलती थी शादी को 6-7 महीने हो चुके थे और भैया ने भाभी जी को चोद चोद कर लड़की से औरत बना दिया था, दोस्तों उस समय भाभी साउथ इंडियन भाभी जी टाइप लगने लगी थी, और आपको तो पता है मुझे ऐसा ही माल पसंद था.दोस्तों अब मुझे भाभी जी में इंटरेस्ट होने लगा और मैंने हमेशा उनके ब्लाउज की उभार को हमेशा देखता और मन ही मन सोचता की काश मुझे उनकी चूचियां दबाने का मौक़ा मिल जाये तो कितना मजा आता, पर अभी तो सब कुछ सपना था, पर अब नेक्स्ट लेवल पे जाने को मैं तैयार था,और तब से मैने भाभी जी के पटाने की तैयारी शुरू की और भाभी जी के साथ बाते करके उनके साथ फ्रॅंक होने लगा.भाभी जी भी मेरे साथ फ्रॅंक हो चुकी थी.

उधर भैया भाभी जी का सेक्स रीलेशन भी कम हुआ था शाद के बाद भैया भाभी जी के साथ हर रात सेक्स करते थे. इस दौरान उन्होंने दो बार एबॉर्शन भी करवा लिया था, मैंने धीरे धीरे भाभी के दिल पे अपने लिए जगह बनाना शुरू कर दिया, मैंने उनकी हरेक बात को कभी काटता नहीं था, वो जो भी मुझे काम कहती मैं सब कुछ कर देता था.अब मैने सोचा था भाभी के साथ मैं अपना फिजिकल रीलेशन बनाऊं तब से मैं भाभी जी को मैं गंदी नज़र से देखने लगा था.जा रही हो तो उनकी गांड को देखता रहता था कुछ काम कर रही हो तो उनके बूब्स को देखना. और शायद ये बात भी भाभी जी ने नोटीस की थी पर उनकी तरफ से कोई रेस्पॉन्स नही था.
भाभी जी हमेशा साडी पहनी रहती थी और रात को सोते वक्त फुल नाईट ड्रेस पहनती थी.भाभी जी का नाम कोमोलिका है और भाभी जी का फिग. 34 26 38. और रंग गोरा. बाल काले और लंबे उनकी कमर तक आते हे. उनकी चूतड़ बड़ी ही मस्त है.आप ये कहानी रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेरा अभी तक भाभी जी के साथ कोई काम नही बना था बस अनजान बनकर भाभी जी को यहाँ वहां छूते रहता था और उनसे टकराने की कोशिश करता था. अब हर वक्त सिर्फ़ भाभी जी के हे बारे मे सोचता था उनके नाम की मूठ मरके रात को सो जाता था. अब जब भी भाभी जी मेरे सामने होती थी मेरा लंड खड़ा रहता था.और वो दिन आ गया जिसको मैने कभी सपने मे भी नही सोचा था.एक दिन घर मे सिर्फ़ मैं और भाभी जी हम दोनो हे थे पापा बाहर गए थे भैया ऑफीस चले गये थे मा पास मे हे अपने एक सहेली के पास आई थी.उस वक्त भाभी जी किचन मे लंच की तैयारी कर रही थी उस वक्त कुछ सुबह के 11:00 हुए थे और मैं किचन के बाहर खड़े रहकर भाभी जी को ताड़ रहा था और शॉर्ट के उपर से हे खड़े लंड को सहला रहा था और उस वक्त मेरा ध्यान सिर्फ़ भाभी जी पर था.
पर उस वक्त मुझसे एक ग़लती हुई थी के घर का डोर क्लोज़ करना भूल गया था और उससी वक्त मा आई थी और उन्होने मुझे वो सब करते हुए देख लिया था पर उस वक्त वो कुछ नही बोली और वो चुपचाप रूम मे चली गयी मा कब आई ये मुझे पता हे नही चला था.

फिर मैने मेरे एमोशन्स को कंट्रोल करके सोफे पर बैठकर टीवी देखने लगा कुछ देर बाद हमने खाना खाया और मा उनके रूम मे चली गयी भाभी जी ने किचन का सब काम ख़तम करके उनके रूम मे चली गयी थोड़ी देर टीवी देखने क बाद मैं भी मेरे रूम चला गया और मोबाइल मे पॉर्न देखने लगा मेरा लंड टाइट हो चुका थाथोड़ी देर मे मैं बातरूम जाकर मूठ मरने वाला था क तभी अचानक मा मेरे मे आई मैने जल्दी से पॉर्न बंद किया लंड मेरा टाइट ह रहा था मा काफ़ी सीरीयस मूड मे थी. मैं बेड पे बैठा था मा मेरे पास आकर खड़ी हुई और बोली
मा-रणवीर मुझे तुमसे कुछ ज़रूरी बात करनी हे
मैं-हा बोलो
मा-आज-कल तुम ये कोमोलिका (भाभी जी) के साथ जो हरकते कर रहा हे,उसके बारे मे.
मैं तोड़ा डर गया मुझे लगा मा को मेरे हरकतों क बारे मे पता तो नही चल गया ? और मैं मा के सामने खड़ा रहा मा मेरी तरफ देख रही थी.
मा-आज मैं जब बाहर से आई तब तुम जो कर कर रहे थे वो सब मैने देख लिया हे.
मैं डर गया पर मैं कुछ नही बोला.
माँ -शरम नही आती तुम्हे? भाभी जी हे वो तुम्हारी,तुम्हारे बड़े भाई की बीवी हे.
मैं-(डरते हुए)सॉरी मा आगे से ऐसा नही होगा.
मा-सिर्फ़ सॉरी कहने से कुछ नही होगा मैं ये बात तुम्हारे पापा से कहने वाली हू,वही फ़ैसला करेंगे.
मैं-नही मा प्लीज़ पापा को मत बताना आगे से मैं ये कभी नही करूँगा प्लीज़ मा.
मा-नही मैं इस मामले मे मैं तुम्हारी कोई बात नही सुनने वाली.
मुझे लगता के अब मा नही मानेगी इसलिए मैने टॉपिक को थोड़ा घुमाया
मैं-(डरते हुए)मा आप तो जानते हो इस आगे मे सभी के साथ ऐसा होता हे आप भी इस आगे से गुज़री हे
मा-(गुस्से में ) हा पर तेरी जैसी हरकते हमने कभी नही की.और उस वक्त हमारे पास उतना टाइम भी नही था.आपके पास इतना टाइम उसका कुछ सही उसे करो हर वक्त उस मोबाइल फोन मे घुसे रहते हो और उसीकि वजह से ये सब हो रहा हे.आप ये कहानी रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
उस वक्त मुझे भी मा पर गुस्सा आ रहा था.
मैं-(गुस्से मे)हा तो क्या करे? कलाज तो कर रहे हे ना?
मा-(गुस्से में ) मैं उसकी बात नही कर रही आज जो कुछ तुम कर रहे थे मैं उसके बारे मे बोल रही हू और ये तुम आज नही बल्कि कही दीनो से करते आए हो देखा हे मैने सब कुछ.
मैं- हा तो क्या करे हम आप हे बताओ?
मा-और भी ऑप्षन्स हे(मा इनडाइरेक्ट्ली मूठ मरने की बात कर रही थी) (दूसरी तरफ देखते हुए) देख हे मैने वो भी करते हुए, तुम्हे.
मैं- (अनजान बनकर) कौन सी ऑप्शन की बात कर रही हो आप?
मा-तुम अच्छी तरह से जानते हो मैं किस ऑप्षन की बात कर रही हू.
मैं-एक वक्त तक वो करना ठीक लगता हे पर आगे बढ़ती हे तो उससे भी आगे बढ़ने का मन होता हे.
मा-(गुस्से में) उससे आगे का क्या? और क्यू?मुझे कुछ समझ मे नही आ रहा हे?
मैं-(गुस्से में) जाने दो आप नही समझोगी इस आगे मे इस तड़फ़ क बारे मे.
मा-(गुस्से में) कैसी तड़फ़?
मैने गुस्से में मा का हाथ पाकड़ा और मेरे टाइट लंड पे रखा और
मैं- ये होती हे तड़फ़. हम पूरी दुनिया को काबू मे रख सकते हे लेकिन इसको काबू मे करना मुश्किल हो जाता हे, जब कोई औरत सामने खड़ी हुई होती हे. फिर चाहे उसके साथ हमारा कोई रिलेशन हो या ना हो.मा का गुस्सा धीरे-धीरे कम हुआ था मा ने मेरे लंड को पकड़ा था और मैने मा के हाथ अपने लंड पर दबा क रखा था मा का दिल की धड़कने तेज हो रही थी और मा मेरी आखो मे आखे डाल क देख रही थी. मा बिल्कुल चुप हुई थी बस मुझे देख रही थी और और मैं उनको देख रहा था, दोनों की नजरें एक दूसरे पे टिकी थी.मैने दूसरा हाथ मा की गर्दन पर रखा और घूमने लगा मा मदहोश होने लगी मा ने मेरे लंड से अभी तक हाथ हटाया नही था मा की आखे बंद हुई और मैं मेरे मूह को मा की गर्दन के पास लेकर गया और उनकी गर्दन को किस करने लगा और हम दोनो ऑटोमॅटिकली एक-दूसरे के बहो मे आए.आप ये कहानी रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेरे दोनो हाथ मा की गांड पर चले गये और फिर मैं मा की गर्दन और कंधे को चूम रहा मा के हाथ मेरे पीठ पर थे मा भी रेस्पॉन्स देने लगी थी और उसी पोज़िशन मे मैं और मा पीछे चले गये और मैने मा को दीवार से सेट करके खड़ा किया. और फिर मैं मा के साथ लिप्स तो लिप्स करने लगा मा पूरी तरह सहयोग करने लगी थी हम एक दूसरे के लिप्स चूस रहे थे और एक-दूसरे की ज़ुबान मूह मे डाल रहे थे.

कुछ देर क बाद मेरे हाथ मा के बूब्स पर चले गये और मैं मा क उस मखमली चुचियो मसलने लगा मा की साँसे तेज हो चुकी थी मा के सारी का पल्लू भी उनकी चेस्ट से साइड हुआ था और मैं मा के उपर और वो मुझे कस के पकड़ा था मैं अब अपने आप कंट्रोल नही कर पा रहा था मैने उसी सिचुएशन मे मा को बेड क पास लेकर गया और उन्हे लिटाया और मैं उनके उपर था और मैने ब्लाउज के हुक खोले और मा की ब्रा को उनकी चुचियॉं के उपर किया और उनकी चुचियॉ पर टूट पड़ा और उन्हे चूसने लगा मा कहरने लगी थी बरी-बरी मैं दोनो चुचिया चूस रहा था. और उनके मुह से आह आह आह की आवाज निकलने लगी. वो मदहोश हो चुकी थी.उससी वक्त मा न मेरे शॉर्ट का नडा खोला और सीधे मेरे अंडरवेर के अंदर हाथ डालके मेरे टाइट लंड को हाथ मे लेकर सहलाने लगी. 10-15 मीं. तक ये सब चलता रहा मैं मा की नाभि तक उन्हे चूम रहा था.फिर मैने धीरे-धीरे मा की साडी और पेटीकोत को उपर किया और सीधे उनकी पनटी के उपर से उनकी चूत को सहलाने लगा जैसे हे मैने मा की चूत पर हाथ रखा मानो उनके बदन मे करेंट लग गया हो. मा ने अपनी टाँगे फैला दी थी.आप ये कहानी रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैं थोड़ा साइड मे हुआ और मैने मेरी शॉर्ट और अंडरवेर उतरी और मा की पनटी को भी उतार दिया और फिर उनके उपर चढ़ गया मा ने मुझे अपनी दोनो टॅंगो क बीच मे लिया मैं और थोड़ी देर तक मा को स्मूच करता रहा और मा भ मेरे लंड को हाथ मे लेकर सहला रही थी फिर मैं मेरा एक हाथ मा की चूत क उपर घूमने लगा मैने मा क चूत के बलोंको महसूस किया मा ने मेरे हाथ को झटका देकर साइड मे किया पर मैं नही माना मैं फिर से मा की चूत को हाथ से छेड़ने लगा.

थोड़ी देर बाद मुझे लगा क मुझे अब मा की चूत मे लंड डालना चाहिए तब मैने लंड को एक हाथ मे लेकर मा की चूत पर रखा और धीरे-धीरे अंदर किया लंड आसानी से अंदर चला गया मा की थोड़ी सी सिसकी निकल गयी
फिर मैं धीरे-धीरे लन्ड़ को अंदर-बाहर करने लगा कमर को उठा कर धक्के लगाने लगा मा ने मुझे कस क पकड़ा था धीरे-धीरे मेरी स्पीड बढ़ने लगी मेरी कुछ धक्को से मा कहरने लगी थी और ये मेरा फस्ट टाइम था इसलिए शायद मैं बहोट एग्ज़ाइटेड था और कुछ ज्यादा ही जोश मे भी इसलिए शायद मेरी स्पीड कुछ ज्यादा ही बढ़ गयी और पूरे जोश मे चुदाई करने लगा.हम दोनो की साँसे तेज हुई थीमा-(धीरे-धीरे) ह ह्म आह ह्म हाहह हहह ह्म हहह ह ह्म हाअ हाहह ह्म हहह आह आह ह ह्म हः अहहाअ ह्म ह्म हाहह आह आहाा अहाआ ह्म आ आह अहहा उफ़ आह आउच उफ़ मा की इस हरकतों से मैं कुछ ज्यादा हे उत्तेजित हो गया था ओर पुरे होश खोकर चुदाई कर रहा था मा ने मेरी पीट को कस्स के पकड़ा था मा के नाख़ून मेरे पीठ मे चुभ रहे थे मा की चूत मे से धीरे-धीरे पानी निकला जर आहा था और मेरा लंड पूरा गीला हुआ था ऐसे हेदस पंद्रह मीं के बाद मुझे लगा क मैं झड़ने वाला हुआ तो मैने स्पीड बढ़ने मे पुरी जान लगाई अब मैं आपेसे बाहर हो गया था और वो मूव्मेंट आगेया और मेरे लंड ने पहला झटका मार्कर स्प्रम की पहली पिचकारी छोड़ी तभी मैल अंड अंदर-बाहर कर रहा था और फिर 4-5 झटकों मे मेरा पूरा स्प्रम निकल गया और मैने चोदना बंद किया.आप ये कहानी रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर मैने धिरे से लंड को चूत स बाहर निकाला और मा क साइड मे लेट गया हम दोनो की साँसे तेज चल रही थी.थोड़ी देर तक हम ऐसे हे लेटे रहे और हम शांत हुए.मैने मा की तरफ देखा मा क चेहरे पे कुछ अजीब मुस्कान था, फिर वो अपने ब्रा के हुक को लगाया फिर ब्लाउज का हुक लगाई साडी ठीक कर वो सीधे बाथरूम के तरफ चली गई. दोस्तों सच बताऊँ तो मैं माँ को चुदाई कर के अजीब महसूस कर रहा था के ठीक हुआ या ग़लत?फिर मैं उठकर शॉर्ट और अंडरवेर पहनी और बातरूम की और गया तब मा बातरूम मे थी (हमारे घर मे एक हे कामन बातरूम हे) मैं बाहर खड़ा रहा. थोड़ी देर में मा बाहर आई मा ने मेरी तरफ देखा और जल्दी-जल्दी मे अपन कमरे मे चली गयी.उसी दिन मैं और मा हम एक-दूसरे को बड़ी शरम से देख रहे थे लेकिन हम बात नही कर रहे थे.दूसरे दिन मैं कॉलेज गया लेकिन मैं अभी तक उसी बात को सोच रहा था इसलिए मैने मेरे दोस्त को इनडाइरेक्ट्ली पूछा ऐसे सिचुएशन मे क्या करना चाहिए उसने कहा सिर्फ मज़ा लेना चाहिए. फिर मैं वापस कॉलेज से आया, माँ मिली पर आँख नहीं मिला पाया, क्यों की ये कहानी को ज्यादा दिन नहीं हुआ है, पर जो भी हो, मुझे बहूत मजा आया,कैसी लगी गलती से माँ की चुदाई कहानियों , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी माँ की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SomaSharma

1 comments:

Indian sex story

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter