Hindi xxx sex story चुदाई की सेक्स कहानी

Read हिंदी सेक्स स्टोरी, चुदाई की कहानी, Real hindi sex stories, hindi sex story, hindi xxx story, hindi adult story, hindi sex kahani, hindi fuck story, sister brother, mom son sex story hindi, brother sister xxx hindi story, hot hindi sex stories, new sex story, student & teacher sex story with indian hot sex photo

मौसी की प्यासी चूत चुदाई की कहानियों

चुदाई कहानी, मौसी की चुदाई hindi sex stories, मैने मौसी को चोदा xxx desi kahani, मौसी ने मुझसे चुदवाया xxx real kahani, chudai kahani, मौसी के साथ सेक्स की कहानी, Desi xxx kamukta hindi story,

मेरी मौसी की उम्र 35 की थी. सुन्दर बॉडी थी. बड़े बोब्स मैं मौसी को जब भी देखता तो मुझे उनका सेक्सी फिगर देखकर मन मे गुदगुदी होती थी. उनका सुडोल गोरा बदन बहुत हसीन था. एक बार उन्होने मुझे अपने यहाँ रहने को बुलाया था. मैं एक महीने के लिए उनके वहां रहने गया. उनका घर बहुत छोटा था.  सिर्फ़ दो कमरे थे. एक किचन और दूसरा उनका हॉल. जब मैं उनके यहा रहने गया तो मौसी ने मुझे देख कर मुझे गले लगा लिया. जिससे उनके बोब्स मेरे सीने से दब गये. मुझे भी मज़ा आया उस दिन मैने भी उन्हे गले लगा लिया और गाल पर किस भी कर दी. मेरी मौसी घर में ज़्यादातर गाउन ही पहना करती थी. जिससे जब वो घर का काम करने के किए झुकती तो उनके बोब्स का भूगोल देखकर मेरा 8″इंच. लंबा लंड खड़ा होने लगता वो मुझसे बहुत प्यार करती थी.
एक बार मौसी किसी काम के लिए नीचे झुकी तो मैने देखा की उन्होने ब्रा, नही पहनी हुई थी तो मुझे उनके बोब्स और थोड़ी चूत दिखाई दी. मेरा ये देखकर बुरा हाल हो गया था. मैं तभी बाथरूम में जाकर मूठ मार कर आया.मेरा दिल मौसी को चोदने के लिए मचल रहा था. लेकिन मेरी हिम्मत ही नही हो रही थी. मैं  मौसी और मौसाजी एक ही बेड पर सोते है. बेड बड़ा था इसलिए हम तीनो को एक ही बेड पर सोने में कोई दिक्कत नही होती थी. पहले मौसी फिर मौसाजी फिर मैं इस तरह लाइन में सोते थे. सोने से पहले मौसी मौसाजी और मुझे दूध ज़रूर देती थी. सोते टाइम घर में अंधेरा रहता है कोई किसी की शक्ल भी नही देख सकता इतना अंधेरा रहता है.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। एक बार मेरी रात को आँख खुली तो मुझे महसूस हुआ की मौसा मौसी की चुदाई कर रहे है. मैने जब गौर से देखा तो मौसा मौसी के उपर लेटे हुए थे और मौसी नंगी नीचे लेटी हुई थी और मौसा मौसी की चुदाई कर रहा था. मौसी बीच बीच मे आआहह.. हूउउ.. न.नाओ उककच..उऊन कर रही थी. ये देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया मैने अपने लंड को पकड़कर उन्हें देखकर वही मूठ मार ली. दोनो आपस में काफ़ी देर तक चुदाई करते रहे ये देखकर मुझे पता ही नही चला की मुझे कब नींद आ गयी. अब मेरा मन और खराब होने लगा मौसी की चुदाई के लिए.

अब मैं 4-5 दिन तक रोज़ जल्दी सोने का बहाना करके लेट जाता था. और मौसी की चुदाई देखा करता था. एक बार मैने देखा की मौसी नंगी आँख बंद करके लेटी हुई और मौसा उनकी चूत में अपना मूह डालकर चूस रहे है. मुझसे रहा नही गया मैने अपना एक हाथ बढाकर मौसी की एक चूची पर रख दिया. मौसी को कुछ पता नही चला की किसका हाथ है. मुझमे और हिम्मत आई तो मैं ज़ोर ज़ोर से मौसी की चूची को दबाने लगा.मौसी की चूची इतनी बड़ी थी की मेरे हाथ में ही नही आ रही थी. मौसी भी मज़े से अपनी चूची दबवा रही थी. और मैं दूसरे हाथ से अपने लंड को पकड़कर मूठ मार रहा था. फिर थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकल गया तो मैने मौसी की चूची से हाथ हटा लिए और सो गया. इन दोनो की चुदाई में मैने ध्यान दिया की दोनो में से कोई बात नही करता था.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर शनिवार आया रविवार को मौसाजी की छुट्टी होती है तो वो शनिवार रात को मौसी को जम कर चोदते है. इसलिए शायद मौसी भी थोड़ी ज़्यादा तैयारी रखती होगी. अब मुझसे रहा नही गया तो मैं मेडिकल स्टोर गया और वहा से नींद की गोली ये कहकर ले आया की मेरे दादा  को 3 दिन से नींद नही आ रही है. उनके लिए कोई नींद की गोली दीजिए. उन्होने बताया की 2 गोली काफ़ी होगी लेकिन मैं 4 गोली ले आया.

अब मैं रात का इंतेज़ार करने लगा. रात को मौसी ने मुझे किचन में बुलाया और दूध देकर कहा की ले अपने मौसाजी को दे आ.मैं उनकी नज़र बचा कर नींद की 4 गोली मौसाजी के दूध में मिला दी. फिर मैने दूध मौसाजी को दिया तो मौसाजी ने पी लिया. आज रात मौसी ने नाईटी पहनी हुई थी. फिर वो दोनो लेइट गये और मैं भी लाइट बन्द करके लेट गया. 1 घंटे बाद मैने मौसाजी को हल्के से हिलाकर देखा तो उन पर नींद की गोली का असर हो गया था. वो सो गये थे. मैने उन्हे अपनी जगह सरका दिया और उनकी जगह मैं आकर लेट गया. मौसी का मूह दूसरी तरफ था तो उन्हे पता नही चला.अब मैने पहले अपने सारे कपड़े उतार दिए और मौसी की कमर पर अपना हाथ रखा मुझे लगा की मौसी सो गयी है. लेकिन वो जागी हुई थी. अब मैने अपना हाथ उनके बोब्स पर रखा और उन्हे नाईटी के उपर से दबाने लगा और उनसे चिपक कर लेट गया.  जिससे मेरा लंड मौसी की गांड को टच कर रहा था. ओर मेने अपनी एक टाँग मौसी के पैरो के बीच में डाल दी और अपने पैर से मौसी क़ी चूत को रग़ड रहा था.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मौसी थोड़ी देर बाद गर्म होने लगी थी. थोड़ी देर बाद मौसी ने अपना मूह मेरी तरफ किया तो मैने उनके होटो पर अपने होट रख दिए. आह क्या टेस्ट था उनके होटो का मैं तो पागल हो गया.अब मैं अपना हाथ उनकी नाईटी के अंदर डालकर मौसी की चूची दबाने लगा. मौसी ने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया और दबाने लगी. मौसी ने नीचे ब्रा नही पहनी हुई थी. मैने मौसी की नाईटी उतार दी और उनके उपर लेट गया और अपने बदन से उनका बदन रगड़ने लगा.  जिससे उनकी चूचीया मेरे सीने से रग़ड रही थी और मेरा लंड उनकी पेंटी के उपर से उनकी चूत पर रग़ड रहा था. तब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

अब मैं उनके होंठों पर किस करता हुआ उनके गाल पर किस करने लगा. मौसी को बहुत मज़े आ रहे थे. मौसी धीमी आवाज़ में कहने लगी की आज क्या हुआ है तुम्हे आज तो बहुत अच्छी तरह से कर रहे हो. मैं कुछ नही बोला मैं अपने काम में लगा रहा. फिर मैं किस करता हुआ उनकी चूचीयो की दरार पर आ गया. फिर मैं मौसी की चूची को मूह में लेकर चूसने लगा और दूसरी वाली चूची को हाथ से दबाने लगा.मेरी मौसी पागल होती जा रही थी. कहने लगी की आआहह आअराम सस्स्सीए..करू हहिईीईईईई..हाई. मैने उनका दुसरे चूची को रग़ड रग़ड कर लाल कर दिया था. तो मुझे कहने लगी की आराम से जान. फिर मैने मौसी के पेट पर किस किया. उन्हे डर था की पास में लेटा हुआ यानी मैं. जग ना जाय. इसलिए ज़्यादा आवाज़े नही कर रही थी. फिर मैं मौसी की चूत की तरफ अपना मूह लाकर उनकी जाँघ पर पागलो की तरह किस करने लगा. हम 69 की पोज़िशन में हो गये थे.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैं अपनी मौसी की प्यारी चूत जो अभी तक पेंटी में क़ैद थी उस पर अपना हाथ रख दिया. मुझे मौसी की पेंटी गीली महसूस हुई तो मैने सूंघ कर देखा तो बड़ी मादक खुशबू आ रही थी. उनकी पेंटी से तो मैने अपनी जीभ से उनकी पेंटी को चाटने लगा चूत के उपर से ही.दूसरी तरफ मौसी मेरे लंड के चारो तरफ़ से अपनी जीभ से चाट रही थी. कभी दबा रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर उन्होने मेरे लंड की टोपी को अपने मूह में रख कर अंदर बाहर कर रही थी. मुझसे रहा नही गया तो मैने एक हल्का सा झटका मारा तो मेरा 4″इंच लंड उनके मूह में चला गया.

इस हमले से मेरी प्यारी मौसी के आँख से आँसू निकालने लगे लेकिन उन्होने मेरा लंड बाहर नही निकाला बल्कि और चूस रही थी. इधर मैने मौसी की पेंटी निकालने लगा तो मौसी ने अपनी गांड उठाकर मेरी हेल्प की पेंटी निकालने में अब मौसी की वो चूत मेरे सामने थी जो मुझे रोज़ परेशान करे रखती थी. अब मैं अपनी ज़ुबान को मौसी की चूत पर फिरा रहा था. उपर से नीचे और नीचे से उपर की तरफ. मेरी मौसी का बुरा हाल था. फिर मैने अपने हाथ की दो उंगली से मौसी की चूत को खोला और उसमे अपनी जीभ डाल दी और जीभ से करने लगा. मेरी प्यारी मौसी पागलो की तरह अपनी गांड को उपर नीचे करने लगी.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैने अपनी 3 उंगली से उनकी चूत में करने लगा. इसी दौरान मेरी मौसी 2 बार झड़ चुकी थी और मैं उनका रस पी गया था.  मैने फिर अपनी 1 उंगली को उनकी चूत की रस से भिगोकर उनकी गांड के छेद पर रख दी. उनके उपर नीचे होने की वजह से मेरी उंगली उनकी गांड  में अंदर बाहर होने लगी. उधर मेरा लंड का भी बुरा हाल था. मौसी ने चूस चूसकर मेरे लंड का पानी निकाल दिया था. मौसी फिर से मेरे लंड को खड़ा करने के लिए उसे चूस रही थी. क्युकी उन्हे अपनी चूत की भी सेवा करवानी थी.

15-20 मीं. बाद मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा तो मैं मौसी की चूत छोड़कर उनके मूह के पास आ गया.  मौसी मेरा चेहरा पकड़ कर मेरा कान अपने मूह के पास लाकर बोली की जान आज सेक्स करने में बहुत मज़ा आ रहा है. आज कहा से सीखकर आए हो. मैने उनके होंठों पर अपनी उंगली रखकर उन्हे चुप करा दिया. क्युकी मैं भी कुछ नही बोल रहा था. तो वो फिर कुछ नही बोली. अब मैने अपने होंठ प्यारी मौसी के होंठों पर रख दिए. उन्होने अपना मूह खोला और अपनी जीभ मेरे मूह में डाल दी. मैने उनकी जीभ को अपने होंठो से पकड़कर अपनी जीभ से चूसने लगा. बड़ी टेस्टी थी मेरी प्यारी मौसी की जीभ. मेरे से रहा नही गया तो मैने उनके दोनो चूचीयो को अपने हाथो में लेकर ज़ोर दे दबा दी. उनके मूह से चीख निकलती निकलती रह गयी. क्युकी उनके मूह को मेरे मूह ने बंद किया हुआ था.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेरा लंड मौसी की चूत पर दस्तक दे रहा था. मौसी से रहा नही गया वो मेरे कान में बोली की जान अब सहा नही जा रहा हे. मैने मौसी का हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया. मौसी ने अपनी टाँगो को फैलाकर मेरा लंड अपनी चूत पर रख दिया. लेकिन मैं मौसी को और तड़पाना चाहता था इसलिए लंड अंदर नही डाला. 5 मीं. बाद मौसी फिर से मेरे कान में बोली अब डाल भी दो क्यू तडपा रहे हो.इतना सुनना था की मैने एक जोरदार झटका मारा. मेरा लंड पूरा का पूरा मौसी की चूत में चला गया. मौसी की हलक से एक हल्की सी चीख निकली तो मैने अपना हाथ मौसी के मूह पर रख दिया मौसी की चूत मुझे थोड़ी टाइट लगी शायद मोंसाजी का लंड मेरे से तोड़ा छोटा और पतला होगा.मौसी ने मेरा हाथ हटाया और बोली आज तुम्हे क्या हो गया है मुझे मार ही डालोगे क्या.. आपका लंड भी थोडा बड़ा बड़ा लग रहा हे. क्या बात है कोई दवाई ली है क्या आज… मैने उनके होठों पर अपने होंठ रखकर फिर से चुप करवा दिया.

मैं मौसी की चूत में जोरदार लंड डालता गया और मौसी धीरे से बोलती जा रही थी की उमाआ..म्माअररर गग्ग्गाययईीई आआहह मेरी छत्त्त्तत्त फट गगायईयी आआअरर्र्र्ररर ज्ज्ज्जूऊर सस्स्स्सीए उई..माँ…आआआआज मेर्र्र्री छुउुउत. मौसी शायद भूल गयी थी की घर में उसका भांजा भी सो रहा है. लेकिन मौसी को क्या पता की भांजा ही चुदाई कर रहा है उनकी. मोंसा तो नींद की गोली लेकर सोया हुआ है. मौसी नीचे से उच्छल उच्छल कर मुझसे चुदवा रही थी. इस दौरान मौसी 2 बार झड़ चुकी थी. लेकिन मैं अभी झड़ने नही वाला था. मैने मौसी को 25 मीं.तक लगातार जोरदार चुदाई कर रहा था. अब मैं थकने लगा था तो मैने मौसी को पकड़कर अपने उपर बेठा लिया और मैं नीचे लेट गया.मौसी समझ गयी थी की मैं क्या चाहता हू. वो मेरे लंड को पकड़कर अपनी चूत पर सेट करके एक दम से मेरे लंड पर बैठ गयी और अपना मूह मेरे मूह के पास लाकर मुझे किस करने लगी और धीरे से बोली की इतना मज़ा तो सुहागरात वाली रात को भी नही आया था जान जितना मज़ा आज आप दे रहे हो. मौसी जानती थी की मोंसाजी सेक्स करते हुए बोलते नही थे. इसलिए उन्हे कोई शक भी नही हो रहा था. मैने मौसी की गांड के नीचे हाथ रखा और उसे उपर नीचे करने लगा जिससे मौसी को इशारा मिल जाए की मैं क्या चाहता हू.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मौसी मेरे लंड पर उपर नीचे होकर चुद रही थी. ऐसा लग रहा था की मैं मौसी को नही मौसी मुझे चोद रही हो. ऐसे हिलते हुए मौसी की चूचीया बड़ी मस्त लग रही थी. मैने हाथ बडा कर मौसी की चूचीयो को पकड़ लिया और मौसी को अपनी तरफ खीचा. जिससे मैने मौसी को अपने से चिपका लिया और मौसी मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी.मैने मौसी की एक चूची को मूह लेकर चूसने लगा तो मौसी अपनी दूसरी चूची खुद ही दबाने लगी. ऐसे करते हुए मौसी एक बार और झड़ी मौसी का पानी मेरे लंड पर आ रहा था. मैने अपना हाथ अपने लंड के पास लाकर मौसी की चूत का पानी को छुवा तो मेरा हाथ पूरा गीला हो गया. मैने फिर उस हाथ को अपने मूह के पास लाकर चाटने लगा. मुझे अच्छा लग रहा था. मैं फिर से चूत के पास हाथ रखा तो फिर गीला हो गया.

इस बार मैने मौसी के मुहं के पास उन्ही की चूत का पानी लगा हुआ हाथ ले गया. पहले तो वो अपना मूह इधर उधर करती रही. फिर मैने उनके बाल पकड़कर अपना हाथ उनके मूह में दे दिया. जिससे उन्होने चाट लिया. मेरी अब थकान मिट चुकी थी. मैने मौसी को नीचे लेटाया और उनकी टाँगो को बेड की साइड में उतार दिया और मैं उनकी टाँगो के पास जाकर खड़ा हो गया. मैने उनकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया जिससे उनकी चूत और उभर गयी. मैने मौसी की एक टाँग अपने कंधे पर रखी जिससे मौसी की चूत और खुल गयी थी.मैने मौसी का हाथ पकड़कर अपने लंड पर रखा मौसी ने मेरा लंड पकड़कर अपनी चूत पर रखा और मेरा लंड दबा दिया. मैं समझ गया. मैने एक झटका मारा तो मेरा लंड उनकी चूत में पूरा चला गया. फिर मैं धीरे धीरे मौसी की चुदाई कर रहा था तो मौसी बोली की जान जरा तेज करो ना.. मैं फिर ज़ोर से धक्के लगाने लगा मौसी भी अपनी कमर उठा उठाकर मुझसे चुदवा रही थी. मौसी की चूत ने फिर से पानी छोड़  दिया.आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैने ये महसूस किया तो मैने दो उंगली से चूत के पानी से भीगो कर मौसी की गांड पर रख दी. जिससे उनके हिलने से उंगलिया अंदर बाहर होने लगी. मौसी ने शायद कभी गांड नही मरवाई होगी.इसलिए वो बार बार मेरी उंगली को हटा देती थी. 45 मीं. के बाद मुझे लगा की मैं झड़ने वाला हू मैने मौसी की चुदाई की स्पीड और बड़ा दी. मेरे साथ साथ मौसी भी एक बार झड़ गई. इस चुदाई में मौसी कम से कम 4 बार झड़ी होगी.मैं अपना लंड चूत में डाले हुए मौसी पर गिर गया. मौसी मुझे चूमने लगी और कहने लगी जान जैसा आज चोदा है वैसे रोज़ क्यो नही चोदते हो. तब मैं किस करता हुआ बोला मेरी प्यारी मौसी जान आज से पहले तुमने मुझे मौका दिया ही कहा था. ये सुनना था की मौसी एक दम चौक गयी और बोली तेरे मोंसाजी कहा है. मैने कहा मौसी वो तो सो रहे है. इतनी देर से मैं ही आपकी चुदाई कर रहा था मौसी जान. मौसी मुझे अपने से अलग करने लगी. आप ये चुदाई रियल हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन मैने मौसी को छोडा नही. मैने कहा आप बहुत नमकीन हो मौसी…दिल करता है की आपको चोदता ही रहूँ. ये कहते हुए मैं फिर से मौसी की चूत में उंगली करने लगा और उनके बोब्स को दबाने लगा. मौसी को भी मेरी चुदाई अच्छी लगी थी इसलिए मान गयी और कहने लगी तेरे मौसा को इस बात का पता नहीं चलना चाहिए. उस दिन के बाद से आज तक में और मौसी पति पत्नी की तरह रहते है और जी भरकर चुदाई करते है.कैसी लगी मौसी की चूत चुदाई , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी मौसी के साथ सेक्स करना चाहते हैं तो उसे अब ऐड करो Facebook.com/bada lund ki pyasi kamsin chut

The Author

Hindi xxx story

hindi xxx story, xxx kahani, desi sex story, desi xxx chudai kahani, hindi sex story, bhai behan ki sex xxx story, maa bete ki chudai xxx kahani, baap beti ki xxx story hindi, devar bhabhi i xxx kamasutra story,
Hindi xxx sex story © 2018 Indian Sex Stories